दूसरों के साथ साझा करें

गुरुद्वारा करतारपुर साहिब पंजाब, पाकिस्तान  दरबार साहिब करतारपुर

आइये जाने

सिख धर्म में क्यों महत्वपूर्ण है करतारपुर?

कहाँ स्थित है करतारपुर साहिब?

गुरुद्वारा करतारपुर  का इतिहास

करतारपुर कॉरिडोर

सिख धर्म में क्यों महत्वपूर्ण है करतारपुर (Kartarpur) ?

kartarpur sahib
Source:Wikipedia

 

सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव जी, जिन्होंने सिख धर्म की स्थापना के साथ साथ धर्म को आगे ले जाने और सिख समुदाय को एकत्रित करने के लिए जिस स्थान को चुना, वो स्थान करतारपुर साहिब के नाम से जाना जाता है।  अपनी अंतिम श्वास तक गुरु नानक देव जी ने सिख समुदाय के लिए इसी स्थान पर कार्य किये।  इसलिए करतारपुर साहिब सिर्फ सिखों की आस्था का केंद्र ही नहीं बल्कि स्मृति है गुरुनानक देव जी की और उनके दिए हुए मार्गदर्शन की।

कहाँ स्थित है करतारपुर साहिब?

करतारपुर साहिब पंजाब, पाकिस्तान

हिंदुस्तान(भारत) – पकिस्तान की सीमा से कुछ दूर  – शकरगढ़ नरोवाल जिला , पंजाब , पाकिस्तान में स्तिथ है करतारपुर साहिब गुरद्वारा  जो हिंदुस्तान की सीमा में गुरद्वारा डेरा बाबा नानक और शहीद  बाबा  सिद्ध  सौन  रंधावा के बेहद नज़दीक है  । वर्तमान में दो अलग अलग देश होने के कारण हिन्दुस्तान में रहने वाले सिखों को, इसी स्थान से करतारपुर साहिब पाकिस्तान को देखने का सौभाग्य मिलता है

करतारपुर पंजाब, हिंदुस्तान

करतारपुर  पंजाब, हिंदुस्तान के जलंधर शहर  के  पास एक शहर है और राज्य के डोआबा क्षेत्र में स्थित है। इसकी स्थापना सिखों के पांचवें गुरु, श्री गुरु अर्जुन देव जी ने की थी।

गुरुद्वारा करतारपुर  का इतिहास

History of Kartarpur Sahib

सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव जी, जिन्होंने सिख धर्म  को आगे ले जाने और सिख समुदाय को एकत्रित करने के लिए जिस स्थान को चुना, वो स्थान करतारपुर साहिब के नाम से जाना जाता है।  अपनी अंतिम श्वास तक गुरु नानक देव जी ने सिख समुदाय के लिए इसी स्थान पर कार्य किये।

अगस्त 2018 में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री और पूर्व क्रिकेट खिलाडी इमरान खान की तरफ से आमंत्रण मिलने पर भारत में इमरान के मित्र पूर्व क्रिकेट खिलाडी व कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने आमंत्रण स्वीकार किया और उनके पाकिस्तान दौरे के बाद कॉरिडोर बनाने की बात सामने आयी।

नवंबर 2018 में भारत के माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने कॉरिडोर निर्माण को हरी झंडी दिखायी।

ऐसा नहीं है की इससे पहले कभी करतारपुर कॉरिडोर की बात नहीं हुई, वर्ष 2000 में बिना वीसा के पुल मार्ग द्वारा भारत से पाकिस्तान स्तिथ गुरुद्वारा करतारपुर साहिब जाने की बात हुई थी जिसे बाद में रोक दिया गया।

करतारपुर कॉरिडोर

प्रस्तावित कॉरिडोर हिंदुस्तान (भारत) में गुरुद्वारा डेरा नानक बाबा से गुरुद्वारा करतारपुर साहिब को जोड़ेगा

kartarpur sahib location

ਡੇਰਾ ਬਾਬਾ ਨਾਨਕ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *